Vidhya Balan का 15 साल का हिन्दी फिल्मी सफर, ‘परिणीता’ से लेकर ‘शकुंतला देवी’ तक

Vidhya Balan: हिंदी सिनेमा जगत में 15 साल पूरे होने पर एक्ट्रेस विद्या बालन (Vidhya Balan) का कहना है कि ‘परिणीता’ (Parineeta) से लेकर ‘शकुंतला देवी’ (Shakuntala Devi) तक उनका फिल्मी सफर बहुत ही सुहाना रहा है। वह इसके लिए शुक्रगुजार है कि अभिनेत्री बनने के अपने एकमात्र सपने को जी रही है। ऐसा नहीं है कि उनके इतने सालों के हिंदी फिल्मी जगत के करियर में उतार-चढ़ाव नहीं आए हैं। उन्होंने खुद बताया कि उनकी जिंदगी में काफी उतार-चढ़ाव भी आए हैं। लेकिन विद्या ने अपना रास्ता खुद बनाया है और हिंदी सिनेमा में ‘द डर्टी पिक्चर’ (The Dirty Picture) और ‘कहानी’ (Kahani) के माध्यम से महिलाओं के ‘हीरो’ बनने का ट्रेंड शुरू किया।

इस इंटरव्यू के दौरान विद्या बालन ने बताया कि उनका सफर बहुत संतोषजनक रहा है। मुझे बहुत खुशी है कि मैंने अपना एकलौता सपना पूरा किया और उसको अपने तरीके से जी रही हूं। उन्होंने बताया कि उन्होंने अपना फिल्मी कैरियर परिणीता से शुरू किया था। आगे विद्या बालन ने बताया मैंने यह सोचा अगर मैं सिर्फ यह फिल्म करने वाली हूं। तो मैं इस फिल्म को अपना सब कुछ देने वाली हूं। मेरा रुक हमेशा ऐसा ही रहा। देखो, ‘आज मैं यहां तक पहुंच गई।’

विद्या बालन ने 1995 में ‘हम पांच’ से अपने करियर की शुरुआत की। उन्होंने पांच बहनों में से एक ‘राधिका’ का किरदार निभाया था। फिल्मों में उन्होंने 2003 में बांग्ला फिल्म ‘भालो थेको’ के साथ अपने करियर की शुरुआत की। फिल्में में सौमित्र चटर्जी, परामवर्त चटर्जी, जॉय सेनगुप्ता और देव शंकर हालदार की मुख्य भूमिकाओं में थे।

यह भी देखें…

SSR Suicide Case: सुशांत के वकील विकास सिंह ने मुंबई पुलिस पर सबूत मिटाने का आरोप लगाया, जाने क्या है पूरा मामला

मैं उम्मीद करती हूं, मेरा पूरा जीवन ऐसे ही गुजरे

एक्ट्रेस ने आगे कहा कि हां कुछ उतार-चढ़ाव आए और कुछ चुनौतियां आई, कुछ सीख मिली, कभी-कभी लगता था कि मैं अपने करियर के सबसे निचले पायदान पर आ गई हूं। तो कभी लगता है, सिर्फ पर हूं। यही इसकी सुंदरता है। मैं आशा करती हूं, कि मेरा पूरा जीवन यही गुजरेगा। विद्या बालन ने अपने पूरे करियर में अलग-अलग महिलाओं के किरदार निभाए हैं। लेकिन सिल्क स्मिता के जीवन की कुछ घटनाओं पर बनी फिल्म डर्टी पिक्चर के अलावा उन्होंने अभी तक कोई बायोटिक्स नहीं की थी। 41 वर्षीय अभिनेत्री का कहना है कि उन्होंने बायोपिक के लिए हमेशा इसलिए मना किया है क्योंकि ‘शकुंतला देवी’ के पहले अच्छी कहानी नहीं मिली थी। लेकिन बालन की 31 जुलाई को रिलीज हुई फिल्म ‘शकुंतला देवी’ भारत की ह्ययूमन कंप्यूटर और उनकी बेटी अनुपमा बनर्जी के जीवन पर आधारित है। फिलहाल आमेजन प्राइम पर स्ट्रीम हो रही है।

Sushant Singh Rajput Case: पटना के एसपी विनय तिवारी को बीएमसी ने किया कोरेंटिन, सीएम नितीश कुमार और सुशांत की बहन ने उठाए सवाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *