SSR Suicide Case: बिहार DGP बोले सुशांत के अकाउंट से ₹50 करोड़ निकाले मुंबई पुलिस इसकी जांच क्यों नहीं करती, जाने…

SSR Suicide Case: सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस (Sushant Singh Rajput Suicide Case) के बारे में जांच कर रही मुंबई पुलिस (Mumbai Police) और बिहार पुलिस (Bihar Police) के बीच जुबानी जंग, बहुत बुरे स्तर पर पहुंच गई है। बिहार डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय (Gupteshwar Pandey) ने मुंबई पुलिस से एक ऐसा सवाल पूछ लिया। जिसका जवाब मुंबई पुलिस के पास अभी तक नहीं है। डीजीपी ने सुशांत सिंह राजपूत के बैंक अकाउंट से संबंधित 50 करोड़ रुपए के धोखाधड़ी वाले मामले के बारे में पूछ लिया था। पुलिस ने अभी तक इस एंगल की जांच क्यों नहीं की है। डीजीपी ने आगे बताया पिछले 4 वर्षों से सुशांत सिंह राजपूत के बैंक खाते में ₹50 करोड़ जमा किए गए। लेकिन आश्चर्यजनक रूप से एक दिन सारे पैसों को निकाल लिया जाता है। एक साल में सुशांत के खाते में 17 करोड़ रुपए जमा किए गए। इसमें से ₹15 करोड़ निकाल लिए गए।

हालांकि आपको बता दें कि सुशांत सिंह सुसाइड केस में पहले पटना पुलिस ने इस केस से में FIR दर्ज करने से मना कर दिया था। लेकिन सीएम नीतीश कुमार के इस केस में दखलअंदाजी करने से पटना पुलिस थाने में रिया चक्रवर्ती के खिलाफ FIR दर्ज की।

यह भी देखें…

SSR Suicide Case: सुशांत के वकील विकास सिंह ने मुंबई पुलिस पर सबूत मिटाने का आरोप लगाया, जाने क्या है पूरा मामला

Sushant Singh Rajput Case: पटना के एसपी विनय तिवारी को बीएमसी ने किया कोरेंटिन, सीएम नितीश कुमार और सुशांत की बहन ने उठाए सवाल

मुंबई पुलिस सुरागों को क्यों दबा रही है

हैरान हो रही डीजीपी ने आगे बताया, ‘क्या यह एक अहम एंगल नहीं है, जिसकी जांच की जानी चाहिए।’ हम शांति से बैठने नहीं जा रहे हैं, दुखी ही लग रहे हैं। डीजीपी ने यह भी पूछा कि मुंबई पुलिस इस तरह के सुरंगों को क्यों दबा रही है। बिहार पुलिस की टीम जांच नेतृत्व करने के लिए पटना सिटी एसपी विनय तिवारी बीते रात 2 जुलाई शाम को मुंबई पहुंचे बीएमसी ने उन्हें रात 11:00 बजे हाथ पर स्टैंप लगाकर कोरेंटिन कर दिया। इसको लेकर भी उन्होंने सवाल किए हैं।

सबूत और जांच रिपोर्ट देने के बजाय आईपीएस अफसर को बंदी बनाया

डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने पूछा इस केस से जुड़े सबूत या पोस्टमार्टम और फोरेंसिक रिपोर्ट जैसी चीजें हमें देने की जगह मुंबई पुलिस ने हमारे आईपीएस ऑफिसर अधिकारी को लगभग हाउस अरेस्ट कर लिया। मैंने किसी और राज्य की पुलिस द्वारा ऐसे योग करते हुए नहीं देखा है। यह मुंबई पुलिस केस की जांच करने में ईमानदारी होती, तो जांच के सारे डिटेल्स हमसे शेयर करते। गुप्तेश्वर पांडे के सवाल के बाद मुंबई पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह से मीडिया से बातचीत की और अपनी टीम की जांच को सही और प्रोफेशनल बताया। बिहार पुलिस 4 सदस्य टीम केस में जांच करने बुधवार को मुंबई पहुंची। इस टीम के नेतृत्व करने वाले पटना के सिटी एसपी विनय तिवारी भी रविवार शाम पहुंचे थे। पुलिस का आरोप है कि विनय तिवारी को जबरन कोरेंटिन किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *