Sonchiriya एक बार फिर सिनेमाघरों में आएगी नजर, Sushant Singh Rajput की पसंदीदा फिल्मों में से एक

Sonchiriya: सुशांत सिंह राजपूत एक अच्छे अभिनेता थे। उन्होंने अपने फिल्मी करियर में कई अच्छी फिल्मों की। हालांकि उनका फिल्मी करियर ज्यादा लंबा नहीं रहा और ज्यादा फिल्में भी उन्होंने नहीं की। लेकिन जितनी भी फिल्में उन्होंने की है। उनमें से कई फिल्में बहुत अच्छी रही। Sushant Singh Rajput की सबसे शानदार प्रदूषण सोनचिड़िया में देखा गया था। उनका पर्सनली तौर पर इस फिल्म में काफी इंटरेस्ट था। इस फिल्म में सुशांत सिंह राजपूत ने अपने करियर की एक अलग ही प्रतिभा को छू लिया था। लेकिन यह फिल्म ज्यादा नहीं चली जिसकी वह हकदार थी। हिंदी सिनेमा इतिहास में कई बार ऐसे हुआ है की फिल्म उनके किरदारों की परफॉर्मेंस के हिसाब से नहीं चली है। वैसे यह फिल्म फरवरी 2019 को रिलीज हुई थी। लेकिन एक बार फिर यह फिल्म ओटीटी प्लेटफॉर्म और सिनेमाघरों में रिलीज की जाएगी।

सुशांत को पसंद थी मिल्म सोनचिड़िया

इस फिल्म में सुशांत सिंह राजपूत का उनके अब तक के करियर का सबसे बेस्ट परफॉर्मेंस देखने को मिला। सुशांत को अपनी इस फिल्म पर बहुत गर्व था। उनकी यह फिल्म उनके सबसे उत्कृष्ट फिल्मों में से एक थी। सुशांत का कहना था कि मैंने अपनी सभी फिल्मों में बहुत मेहनत की है। लेकिन सोनचिडिया में मैंने विशेष रूप से कड़ी मेहनत की है। मुझे लगता है कि सोनचिड़िया के लिए हमारे निर्देशक अभिषेक चौबे की कड़ी मेहनत और हमारे सभी कलाकारों और टेक्नीशियन हो को भी सहरना चाहिए। जिन्होंने चंबल की तपती गर्मी में कड़ी मेहनत की थी। लेकिन यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर ज्यादा कमाल नहीं कर पाए। लेकिन इस फिल्म में सुशांत सिंह राजपूत ने अपनी उत्कृष्ट एक्टिंग को दिखाया था। सुशांत सिंह का कहना था कि जब कोई उनके किसी प्रयासों को सराहाता है ‘तो अच्छा लगता है।’ मैंने कभी भी पैसे और भाग्य के पीछे नहीं भागत और ना ही कभी 100 करोड़ क्लब में मेरी कोई दिलचस्पी है। सुशांत ने अपनी बातों से क्लियर कर दिया था कि उन्हें बॉक्स ऑफिस पर सफलता कोई मायने नहीं रखती अगर मायने रखता है तो सिर्फ मेरा परफॉर्मेंस और मेरी संतुष्टि। अगर मुझे पैसा ही कमाना था तो किसी भी प्रोफेशन में कमा सकता था। मैं सिर्फ यहां पर कुछ अलग करने आया हूं। जब भी अगर मैं अपने काम को देखूं तो मुझे खुद पर प्राउड फील हो और एक संतुष्टि का अहसास हो, चाहे वह व्योमकेसबक्शी, धोनी, केदारनाथ हो या सोनचिड़िया। मैं खुश हूं कि मैं इन सब फिल्मों का हिस्सा बना।

सुशांत ने क्या कहा अपने बारे में

सुशांत ने बताया था। वह अपने किरदार में पूरी तरह से डूब जाना पसंद करते हैं और उसको एक रियलिटी तौर पर और जमीनी स्तर पर निकालना भी पसंद करते हैं। मैं जिस पर किरदार को अपने लिए चुनता हूं। उसने अपना 100% देने की कोशिश करता हूं। क्योंकि अगर मैं अपना पूरा एफर्ट नहीं लगा पाता, तो मुझे अच्छा नहीं लगता और मैं ठीक से सो भी नहीं पाता। मैं किसी भी किरदार को अगर सही से पहचान ना पाऊं और उसकी अंतरात्मा को न छू लूं, तो यह एक बेईमानी होगी। मैं जब भी कोई फिल्म साइन करता हूं। उसमें अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश करता हूं।

 सोनचिडिया में डाकू किरदार निभाने के लिए सुशांत ने कई दिनों तक खुद पर ध्यान न देते हुए और खुद को कई दिनों तक बिना साफ किए हुए रखा। ताकि वह इस किरदार की गहराइयों को पहचान सके। सोन चिडिया में मेरा किरदार खुद को संपन्न कर देना जैसा था। मैं अपने इस किरदार को निभाने के लिए खुश हूं कि मैंने अपने आप को इसमें नौछावर कर दिया था। केदारनाथ और सोन चिडिया में मैं अपने किरदारों के बीच में एक चीज देखता हूं वह है मानवता का मूल। मुझे वही पकड़ना था बाकी सफलता और असफलता कोई मायने नहीं रखती। क्या हम लोग समझे कि सुशांत सिंह राजपूत को बॉक्स ऑफिस पर सफलता और असफलता से कोई फर्क पड़ता है या नहीं पड़ता। तो इस पर सुशांत सिंह राजपूत ने कहा था। जैसा मैंने कहा फिल्मों में की गई कड़ी मेहनत कोई सहरना चाहिए। हो सकता है इस मामले में बॉक्स ऑफिस पर मेरे आंकड़ों में कमी दिखे। लेकिन मुझे ऐसी फिल्में करना बेहद पसंद है और मैं जब तक रहूंगा मैं ऐसी ही फिल्में करूंगा।

सुशांत से जुड़ी ख़बरे…

Sushant Singh Rajput Case: सुशांत सिंह राजपूत के केस में महेश भट्ट से 2 घंटे की पूछताछ, जाने…

Sushant Suicide Case में आया नया मोड़, पिता ने गर्लफ्रेंड रिया के खिलाफ की FIR दर्ज

Sushant Singh Rajput Sucide Case: CBI जांच कराने की मांग हुई तेज, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर दबाव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *