Coronavirus Vaccine: एस्ट्राजेनेका कोरोनावायरस वैक्सीन परीक्षण पर लगी रोक, ट्रायल के दौरान एक व्यक्ति में अनियमित बीमारी के लक्षण पाए गए, जाने क्या है पूरा मामला

Coronavirus Vaccine: फार्मास्युटिकल कंपनी AstraZeneca ने कहा कि मंगलवार को स्वेच्छा से उसके कोरोनवायरस वैक्सीन का यादृच्छिक नैदानिक ​​परीक्षण किया गया था. जिसे एक स्वयंसेवक द्वारा अस्पष्टीकृत बीमारी विकसित होने के बाद इसे नियमित क्रिया पर रोक लगा दी गयी है.

एक प्रवक्ता ने एक बयान में कहा कि ऑक्सफोर्ड कोरोनावायरस वैक्सीन के चल रहे ट्रायल पर एक व्यक्ति में अनियमित क्रिया के कारण इस पर अभी के लिए रोक लगा दी गयी है. जब तक उस व्यक्ति में हुए बदलाव का कारण नहीं पता चलता तब तक अगली सूचना तक इसके ट्रायल को स्थगित कर दिया गया है. हमारी मानक समीक्षा प्रक्रिया शुरू हो गई थी और लेकिन अब हमने स्वेच्छा से सुरक्षा डेटा की समीक्षा की अनुमति देने के लिए टीकाकरण रोका लगा दी है.

एस्ट्राज़ेनेका के एक प्रवक्ता ने क्या कहा

एस्ट्राज़ेनेका के एक प्रवक्ता ने अमेरिका और अन्य देशों में टीकाकरण कवर अध्ययन में रोक की पुष्टि की है. पिछले महीने के अंत में एस्ट्राज़ेनेका ने टीके के अपने सबसे बड़े अध्ययन के लिए अमेरिका में 30,000 लोगों की भर्ती शुरू की थी. और यह ब्रिटेन में हजारों लोगों और ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका में छोटे अध्ययनों पर भी काम चल रहा है. ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय द्वारा विकसित टीका का भी परीक्षण भारत भी कर रहा है.

दो अन्य टीके संयुक्त राज्य में विशाल तौर पर तैयार किये जा रहे हैं. जो अपने अंतिम चरण के परीक्षणों में चल रहे हैं. एक मॉडर्न इंक द्वारा और दूसरा फाइजर और जर्मनी के बायोएनटेक द्वारा भी टीकों पर परीक्षण चल रहा है. ये दो टीके एस्ट्राजेनेका की तुलना में अलग तरह से काम करते हैं. और अध्ययन में पहले से ही आवश्यक स्वयंसेवकों के बारे में दो-तिहाई भर्ती की जा चुकी है.

कोरोना वायरस केस: भारत में COVID-19 के मामले 40-लाख के पार, रिकवरी दर 77 फीसदी के पार, जाने अब तक कितनों की गई जान

जीवन में योग का महत्व: शुरुआती लोगों के लिए योग शुरू करने से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, जाने…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *