कोरोना वायरस केस: भारत में COVID-19 के मामले 40-लाख के पार, रिकवरी दर 77 फीसदी के पार, जाने अब तक कितनों की गई जान

कोरोना वायरस केस: भारत में COVID-19 ने ओवरआल शुक्रवार की रात को 40 लाख का आंकड़ा पार कर लिया है. यह आकड़ा पहले 30 लाख था केवल 13 दिन अंदर अब यह आकड़ा 40 लाख के पार हो गया है. सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के आंकड़ों के मुताबिक अब तक कुल 31,06,921 रिकवरी हो गई. भारत में COVID-19 के केस 40,10,877 हो चुके हैं. जबकि मृत्यु का आंकड़ा 69,546 के पार हो चूका है. यह भारत के लिए बहुत ही गंभीर स्थिति है. जिस रफ़्तार से भारत में केस बढ रहे हैं, आने वाले कुछ टाइम में भारत विश्व भर में कोविड-19 केस के मामले में अवल नंबर पर पे आ जाएगा.

रिकवरी दर 77 फीसदी के पार

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रारंभिक अध्धयन के अनुसार, गुरुवार और शुक्रवार के बीच, 83,341 नए मामलों का पता चला और जिसमें 1,096 लोगों ने अपनी जान गवाई. वहीं भारत की COVID-19 रिकवरी दर 77 फीसदी से अधिक हो गयी है. यह लगातार नौवां दिन है जब 60,000 से अधिक की रिकवरी दर्ज की गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि ये आंकड़े बताते हैं कि ठीक होने वाले मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. यह भारत के लिए एक अच्छा संकेत है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने आगे कहा, “जीवन को बचाने के लिए चिकित्सा स्तर की एक समान मानकीकृत स्तर प्रदान करने के लिए उच्च स्तर की रिकवरी को बनाए रखने और नैदानिक ​​उपचार प्रोटोकॉल को मजबूत करने पर जोर दिया गया है. न केवल भारत का मामला वैश्विक औसत की तुलना में कम है और उत्तरोत्तर घटता (वर्तमान आंकड़ा 1.74 प्रतिशत है), लेकिन सक्रिय मामलों का बहुत कम अनुपात 0.5 प्रतिशत से भी कम है. जो वेंटिलेटर पर हैं. आंकड़ों से यह भी पता चलता है कि 2% मामले आईसीयू में हैं और 3.5% से कम सक्रिय मामलों में ऑक्सीजन की आवश्यकता है.

रिकवरी रेट और सक्रीय रेट में अंतर

आज तक के रिकॉर्ड के हिसाब से रिकवरी की संख्या ने सक्रिय लोगों के बीच अंतर को लगातार बढ़ाया है. यह अंतर 22 लाख को पार कर गया. इससे यह सुनिश्चित हो गया कि सक्रिय मामलों (8,31,124 जो सक्रिय चिकित्सा देखभाल के अधीन हैं) के खिलाफ देश का वास्तविक केसलोड कम हो गया है और वर्तमान में कुल सकारात्मक मामलों का केवल 21.11% शामिल है.

सरकार ने बड़े समय तक परीक्षण किया है और यह दावा किया कि किसी अन्य देश ने बहुत उच्च दैनिक परीक्षण के इन स्तरों को प्राप्त नहीं किया है, जो अब 4.7 करोड़ के करीब है. अधिकारियों ने कहा कि बहुत उच्च परीक्षण स्तरों के बावजूद दैनिक सकारात्मकता दर 7.5% से कम है और संचयी सकारात्मकता दर 8.5% से कम है. भारत की केस फैटलिटी रेट (सीएफआर) 1.74% तक पहुंच गई है.

कला जगत ‘हुसैन’ पर एक कार्यक्रम होगा, यह भारत में होने वाली सबसे बड़ी एकल कलाकार नीलामी होगी, जाने…

श्वेता त्रिपाठी शर्मा ने काफी स्टाइल ट्रिक्स में अपना फोटोशूट कराया, जिसमें वह बेहद खूबशूरत लग रही है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *