Bihar Election: आयोग चुनाव को तैयार, ‘टूथ पिक’ का होगा इस्तेमाल, जाने क्या है ‘टूथ पिक’

Bihar Election: बिहार विधानसभा 2020 के चुनाव को कराने के लिए आयोग ने शुक्रवार को एक मंथन किया। इसके बाद आयोग ने दिशानिर्देशों को भी तैयारी कीया। कोरोना महामारी और बाढ़ की विभीषिका के दौरान बिहार (Bihar) में विधानसभा का चुनाव को समयनुसार में कराने को लेकर आयोग ने कुछ निर्देश और कुछ गाइडलाइन जारी की हैं। चुनाव के मतदाताकर्मियों के लिए पीपीई किट और मतदाताओं को संक्रमण से बचाने के लिए दस्ताने और मास्क का इस्तेमाल करने की बात कही है। आपको गौरतलब होगा कि इस साल साल के अंत में बिहार विधानसभा (Bihar Vidhan Sabha) का चुनाव होना है। लेकिन देश में चल रही महामारी के चलते कुछ अटकले आ रही हैं। चुनाव आयोग इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए निर्देश जारी किए हैं और कहां है Covid-19 के प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए बिहार विधानसभा में चुनाव करा सकते हैं।

क्या हैं चुनाव आयोग (Election Commission) के निर्देश

आयोग के सचिव एंटी भूटिया ने सभी राजनीतिक दलों को 31 जुलाई तक बिहार विधान सभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक दलों की सराय मांगी है। इनके बाद ही आयोग अपने निर्देश जारी करेगा। सुरक्षा के लिहाज से आयोग ने कहा है कि सभी मतदाता, मतदान कर्मियों को मास्को और दस्ताने पहने अनिवार्य होगा। पोलिंग बूथों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। आयोग ने यह भी कहा है कि कोई भी राजनीतिक दल सार्वजनिक स्थानों और धार्मिक स्थानों पर कोई भी रैली नहीं करेगा। इन सभी पर पाबंदी लगाई गई है। आयोग ने इन निर्देशों को कड़े रूप से लागू करने की बात कही है। और कहा है कि सभी लोग Covid-19 के प्रोटोकॉल को फॉलो करना अनिवार्य होगा। बूथों पर सभी मतदाताओ की थर्मल स्क्रीइंग की जाएगी।

राजनीतिक दलों मांगे सुझाव

वैसे आपको बता दें बाढ़ और कोरोना संकट के बीच बिहार के कुछ राजनीतिक दलों ( Political Parties) ने बिहार विधानसभा (Bihar Vidhan Sabha) के चुनाव को कुछ समय तक डालने की बात कही। कहा कि वह इस समय चुनाव कराने के पक्ष में नहीं है। आधिकारिक तौर से बताया जा रहा है चुनाव आयोग ने चुनाव कराने की सभी तैयारी कर ली है। विधानसभा चुनाव के चुनाव के लिए कम से कम बूथों का इस्तेमाल करने पर भी विचार कर रही है

सीएम अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री को लिखा खत, अमेरिका की जांच एजेंसी से कराएं वॉइस टेस्टिंग

God Father of Mumbai Bala Saheb Thakre, एक आवाज से थम जाता था पूरा शहर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *